Pradhan Mantri Urea Subsidy Yojana

Rate this post

Pradhan Mantri Urea Subsidy Yojana.प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना,Benefits of Urea Subsidy Yojana,Urea Subsidy Scheme,DBT in Fertilizer Subsidy to Farmers To All Details.Benefits To every kissan.

PM Urea Subsidy Scheme 2019-20 | Pradhan Mantri Subsidy Yojana in Hindi| यूरिया सब्सिडी छूट योजना | प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी रेट योजना लिस्ट | Pradhan Mantri Rozgar Yojana in Hindi | यूरिया सब्सिडी योजना 2019-20 प्रधानमन्त्री यूरिया छुट योजना | प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना| Pradhan Mantri Urea Subsidy Yojana | PM Urea Subsidy Scheme         

तो दोस्तों और मेरे प्यारे किसान भाइयों आज हम आपको प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना के बारे जानकारी देने जा रहे हैं| केंद्र सरकार ने सभी किसानो के हितो को ध्यान रखते हुए एक सरकारी योजना शुरू की थी जिसका नाम यूरिया सब्सिडी योजना है| यहा योजना के तहत छोटे और सीमांत किसानों को यूरिया खाद में छूट प्रदान की जाएगी| हमारी सरकार ने फैसला लिया है की देश के निम्न वर्ग के किसानो को खेती करने में किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो तथा उनके आर्थिक संकट को दूर किया जा सके| इस योजना का उदेश्य गरीब किसानों को खेती करने के लिए उचित दामों में यूरिया खाद उपलब्ध करना है| केंद्र सरकार ने सभी किसान भाइयों के हितो का ध्यान रखते हुए कई सरकारी योजनाओं को शुरू किया है| जैसे की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, ऋण मोचन योजना, किसान कर्ज माफ़ी योजना इत्यादि| इस सब योजनाओं का मुख्य लक्ष्य देश के किसानों को प्रोत्साहन करना है| जिससे किसानों का आत्मबल बढ़े और खेती के पैदावार में भी सुधर हो सके| इस सरकारी योजना को सरकार ने 2020 तक जारी रखने का फैसला किया है|

इस योजना के अंतर्गत किसानो को बाजार से कम कीमत पर ही यूरिया उपलब्ध कराया जाएगा| यूरिया के रेट में किसी भी प्रकार की कोई बढ़ोतरी नहीं की जाएगी| जिससे किसानो को अधिक से अधिक लाभ मिल सकेगा| केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2020 तक यूरिया सब्सिडी योजना का विस्तार करने का फैसला किया है|

हाल ही में हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने पीएम् यूरिया सब्सिडी योजना(PM Urea Subsidy Scheme) को फिर से आधिकारिक रूप से शुरू करने का आदेश जारी किये है| इस फैसले से देश में निम्न वर्ग और सीमांत किसानों को खेती करने में काफी मदद मिलेगी| यूरिया खाद फसल के लिए बहुत जरुरी होती है| इसलिए इस यूरिया सब्सिडी योजना को केंद्र सरकार ने 2020 तक जारी रखने का फैसला किया है|

इसके अलावा उर्वरकों में यह DBT(Direct Benefit Transfer Scheme) सीधे किसानों को सीधे यूरिया सब्सिडी हस्तांतरण और उर्वरक सब्सिडी सुनिश्चित करेगा| सरकार उर्वरकों के लिए DBT प्रदान करेगा ताकि उर्वरक DBT रोलआउट के तहत सब्सिडी वाले यूरिया की आपूर्ति सुनिश्चित हो सके|

सरकार रुपये 5,360 प्रति टन की नियंत्रित किमत पर यूरिया प्रदान करेगा| इस हिसाब से यूरिया सब्सिडी योजना में 2018-19 में लगभग रुपये 45,000 करोड़ रुपये लगेंगे | पिछले साल में 42,748 करोड़ रुपये 3 साल के लिए 2020 तक, इस परियोजना के लिए केंद्रीय सरकार को 1,64,000 करोड़ रुपये लगेंगे|

आर्थिक मामलों की मंत्रीमंडलीय समिति(सीसीईए) Cabinet Committee On Economic Affairs(CCEA) ने उर्वरक सब्सिडी सुधारों के इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है| सरकार का मुख्य उदेश्य उर्वरकों के काम में डीबीटी बनाने और किसानों को कम कीमत पर पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध करने पर है|

प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना (PM Urea Subsidy Scheme 2019-20)

जैसे की हमने आपको बताया की हमारी केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना(PM Urea Subsidy Scheme) को फिर से शुरू करने का आदेश जारी किया है| इस योजना के अंतर्गत वर्ष 2020 तक यूरिया की कीमतों में किसी भी प्रकार की वृद्धि नहीं की जाएगी| जिससे किसानों को कम कीमत पर आसानी से यूरिया प्राप्त हो सके| यूरिया एक नाइट्रोजन फ़र्टिलाइज़र होता है, इसका उपयोग किसान अपनी खेती के लिए करता है| यूरिया खाद का सही उपयोग फसलों के लिए काफी अच्छी होती है, इसके फसल की पैदावार बढती है|

किसानों को उर्वरक सब्सिडी में यूरिया सब्सिडी योजना / डीबीटी

Urea Subsidy Scheme / DBT in Fertilizer Subsidy to Farmers

उर्वरको सब्सिडी के इस प्रत्यक्ष लाभ अंतरण की महत्वपूर्ण विशेषताएं और मुख्य विशेषताएं नीचे दी गई है:-

  • इसमें डायरेक्ट यूरिया सब्सिडी ट्रान्सफर योजना किसानों को रुपये 5,360 / टन की रियायती कीमत पर यूरिया खरीदने में सक्षम करेगी|
  • इसके बाद सरकार फार्म गेट पर उर्वरक की वितरित लागत और निर्माताओं को सब्सिडी के रूप में अधिकतम खुदरा मूल्य (एम्आरपी) में अंतर प्रदान करेगा|
  • इसके अलावा केंद्रीय सरकार 1.64 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगा| अगले 3 सालों में इससे पहले रसायन और उर्वरक मंत्रालय को हर साल मंजूरी लेने की आवश्यकता होती है| इस बार इसे 3 साल के लिए मंजूरी मिली|
  • सीसीईए प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के कार्यान्वयन को भी मंजूरी देता है – उर्वरक सब्सिडी में डीबीटी किसानों को सीधे उर्वरक सुब्स्दीय को ठीक से वितरित करने के लिए|
  • इस सब्सिडी के इस सीधे लाभ हस्तांतरण से डाइवर्जन कम हो जायेगा और इसका रिसाव भी प्लग हो जाएगा|
  • हमारी सरकार उर्वरकों के लिए DBT प्रदान करने के लिए राष्ट्रव्यापी उर्वरक DBT रोलआउट की योजना बना रहा है|
  • उसके बाद उर्वरकों में DBT उर्वरक DBT योजना के तहत उर्वरकों को DBT बनाने के लिए उर्वरक कंपनियों को 100% भुगतान सुनिश्चित करेगा|

यूरिया सब्सिडी योजना के लाभ (Benefits of Urea Subsidy Yojana)

  • यह योजना को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा शुरू किया गया था|
  • इस यूरिया सब्सिडी योजना के तहत सभी किसान भाइयों को उनकी फसल हेतु यूरिया की खरीद पर सब्सिडी दी जाएगी|
  • इस मिलने वाली सब्सिडी से अधिक से अधिक किसानों को और बेहतर फसल करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकेगा|
  • इस योजना के तहत सबसे ज्यादा लाभ उन किसानों को होगा, की जो किसान पैसे की कमी के चलते यूरिया खाद (Urea Manure) नहीं खरीद सकते थे|
  • यूरिया एक नाइट्रोज़न फ़र्टिलाइज़र(Nitrozen Fertilizer) होता है, इसका उपयोग किसान अपनी खेती के लिए करता है, जिसकी वजह से फसल की पैदावार बढती है|
  • इसमें किसी भी चीज के उसकी सही मात्रा से अधिक इस्तेमाल करने से नुकसान होता है| इसलिए यूरिया का भी अधिक मात्रा में इस्तेमाल से फसल का नुकसान हो सकता है|
  • इसके साथ ही जहाँ पर फसल की गयी है उस जमीण को भी नुकसान पहुंच सकता है| इसलिए यूरिया का सही उपयोग करना बहुत जरुरी है|

तो दोस्तों और मेरे किसान भाइयों यहा पर हमने प्रधानमंत्री यूरिया सब्सिडी योजना के बारे में जरुरी जानकारी देने का प्रयत्न किया गया है| अगर आपको यह योजना से संबंधित कोई सवाल हो या आपको इससे जुडी अधिक जानकारी चाहिए तो आप अपने नजदीकी किसान कल्याण केंद्र(Farmer Welfare Center) में संपर्क कर सकते है और उसके अलावा आप हमे COMMENT BOX के माध्यम के संपर्क कर सकते है| हम आपके सवाल का जवाब अवश्य देंगे आप हमारी पोस्ट को लाइक और शेयर कर सकते हैं| धन्यवाद आपका दिन अच्छा रहे|

Leave a Reply